21 जुलाई.. रात 10 बजे..
त्रिपुरा के IAS अफसर का फोन बजता है,

इतनी रात में कौन फोन कर सकता है ? ,

फोन पर जवाब आया की प्रधानमंत्री मोदी आपसे बात करना चाहते हैं.
भौंचक्का अफसर के कान में PM मोदी की आवाज आई,
“माफ़ कीजिये इतनी रात में आपको तकलीफ दी. दरअसल में अभी नितिन गडकरी जी के साथ मीटिंग कर रहा था, मुझे पता चला है की NH 208 A , जो त्रिपुरा को बाकी देश से जोड़ता है , की हालत बहुत खराब है और इसकी मरम्मती तुरंत होना बहुत आवश्यक है”
.
.
उस अफसर को बस इतना याद है की मोदी जी ने आसाम और त्रिपुरा सरकार से भी इस मामले में बात कर ली है…. मोदी की आवाज़ उसके कानों में गूंजती रही रात भर ….. उस रात वो अफसर सो नहीं पाया …..
.
सुबह जब वो अफसर दफ्तर पहुंचा तो उसे खबर मिली की आसाम, त्रिपुरा और भारत सरकार के आदेश आ चुके थे , फंड आ चूका था , साईट पर आसाम सरकार के 6 JCB तैनात थे .. और ये सब उस 15 km सड़क के मरम्मती के लिए !
.
अगले 3- 4 दिनों में 300 ट्रक मटेरियल के साथ आसाम और त्रिपुरा के PWD के अधिकारी और लोकल मजदूर भी पहुँच गए ….. 20 दिन में पूरी सड़क तैयार हो गई !!

.
अभी दो दिन पहले ही नितिन गडकरी ने उस IAS अफ्सर को इस काम को सफलता पूर्वक पूरा करने की बधाई दी और NH 44 को भी इसी तरह ज़ल्द से ज़ल्द मरम्मत करने का आदेश दिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here